Home उत्तर प्रदेश मंत्री ने एसआरएन हाॅस्पिटल का किया निरीक्षण

मंत्री ने एसआरएन हाॅस्पिटल का किया निरीक्षण

by Shrinews24
0 comment

मंत्री ने एसआरएन हाॅस्पिटल का किया निरीक्षण


अवधेश कुमार श्री न्यूज 24
मंडल थाना प्रभारी प्रयागराज मंडल

अधिकारियों व चिकित्सकों के साथ बैठक कर जानी व्यवस्थाएं
एसआरएन में एडमिट कोरोना मरीजों की अब होगी और क्लोज माॅनिटरिंग स्वरूपरानी नेहरू हाॅस्पिटल को सौंपे गए आईसीयू के लिए 100 माॅनीटर मंत्री जी ने एसआरएन में एक और ऑक्सीजन टैंकर लगाए जाने के दिए निर्देश।
स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय प्रयागराज के आईसीयू में भर्ती कोरोना मरीजों का और बेहतर ईलाज हो सके, मरीजों की क्लोज माॅनिटरिंग हो सके इसके लिए प्रदेश सरकार ने अस्पताल प्रशासन को आईसीयू के लिए 100 और माॅनिटर दिए हैं, जिसे उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन अल्पसंख्यक कल्याण राजनीतिक पेंशन मुस्लिम वक्फ एवं हज मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने अस्पताल प्रशासन को सौंपा। इस दौरान जिलाधिकारी श्री भानुचंद्र गोस्वामी और एसआरएन हाॅस्पिटल के प्राचार्य डा. एसपी सिंह मौजूद रहे। मा0 मंत्री जी ने निरीक्षण करते हुए चिकित्सकों एवं अधिकारियों के साथ बैठक कर व्यवस्थाओं के बारे में जाना। वहीं कठिन परिस्थितियों में भी लगातार लोगों की सेवा कर रहे चिकित्सकों व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों का उत्साहवर्धन किया। मंत्री जी ने कहा कि आईसीयू में एडमिट मरीजों के क्लोज माॅनिटरिंग की जरूरत पड़ती है, जिसमें यह कम्प्यूटराइज्ड माॅनिटर काफी मददगार साबित होगा।
एसआरएन मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य डा. एसपी सिंह ने बताया कि माॅनिटर के जरिये आईसीयू में एडमिट पेशेंट का एसपीओ-2 ऑक्सीजन सेचुरेशन क्या है, यह पता चलता रहेगा। उसी के अनुसार डाॅक्टर ऑक्सीजन का फ्लो देख सकेंगे। ऑक्सीजन लगने पर बाइपैप में है, या वेंटीलेटर पर है पूरे पैरामीटर के वाइटल माॅनीटर पर दिखते रहते हैं। पल्स रेट, ब्लड प्रेशर और ईसीजी भी डिस्प्ले करता रहता है, जिससे माॅनीटरिंग में दिक्कत नहीं होगी। माॅनीटर पर ऑक्सीजन सेचुरेशन भी शो करता है, जिससे पता चलता रहता है कि पेशेंट के बाॅडी के वाइटल क्या हैं। माॅनिटर पर सब कुछ दिखता रहता है, जो डाॅक्टर के ड्यूटी रूम से कनेक्ट रहता है। डाॅक्टर ड्यूटी रूम से भी माॅनिटर के जरिये पेशेंट के वाइटल पर नजर रख सकते हैं। सेचुरेशन फाल कम होने पर माॅनीटर में बीप बजने लगेगा।
मंत्री जी ने कहा कि अब आईसीयू के मरीजों की माॅनिटरिंग और अच्छे से हो जाएगी। डाॅक्टर के क्लोज ऑब्जर्वेशन में मरीजों का इलाज हो सकेगा। 140 माॅनीटर पहले से थे, 100 और बढ़ाए गए हैं। ऑक्सीजन की व्यवस्थाओं और आपूर्ति के बारे में मा0 मंत्री जी ने प्राचार्य डा. एसपी सिंह से पूछा तो उन्होंने बताया कि एसआरएन में ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए दो लिक्विड टैंक लगे हुए हैं, जिसकी क्षमता 40,000 लीटर है। पर-डे करीब 20 से 22 हजार लीटर ऑक्सीजन की पर-डे खपत है। टैंक में लिक्विड की सप्लाई जमशेदपुर से होती है। दो टैंकर पर-डे आते हैं, जिसकी वजह से एसआरएन में ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था लगतार बनी हुई है। ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं आई है अभी तक। मंत्री जी ने आक्सीजन आपूर्ति के लिए कैपेसिटी बढ़ाए जाने व एक टैंकर और लगाए जाने का निर्देश दिया

You may also like

Leave a Comment