Home उत्तर प्रदेश आबादी के हिसाब से राजनैतिक भागीदारी चाहिए वैश्य समाज को-डॉ. सुमंत

आबादी के हिसाब से राजनैतिक भागीदारी चाहिए वैश्य समाज को-डॉ. सुमंत

by Shrinews24
0 comment

आबादी के हिसाब से राजनैतिक भागीदारी चाहिए वैश्य समाज को-डॉ. सुमंत

दिसंबर में रथयात्रा निकाल कर सियासी दलों पर दबाव बनाएगी वैश्य एकता परिषद

राहुल कुमार गुप्ता
ब्रजेन्द्र गुप्ता
कोच जालौन

कोंच अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद राजनीति में वैश्य विरादरी की नाममात्र की भागीदारी को लेकर कतई नाखुश है। परिषद के केंद्रीय नेतृत्व का मानना है कि जब आबादी के हिसाब से समाज में उसकी हिस्सेदारी सोलह फीसदी है तो राजनीति में भी उनकी भागीदारी सोलह फीसदी हो। परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. सुमंत गुप्ता ने दो टूक कहा कि अब वैश्य समाज चुप नहीं बैठेगा और अपने हक की लड़ाई वह वैश्य समाज को जागृत और राजनैतिक दलों पर दबाव बना करके लड़ेगा। इसके लिए परिषद दिसंबर माह में ‘वैश्य राजनैतिक अधिकार यात्रा लक्ष्य 2022’ में समूचे उत्तरप्रदेश में निकाल कर अपनी ताकत का एहसास कराएगी।
अधिकार यात्रा की तैयारियों के सिलसिले में कोंच आए अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. सुमंत गुप्ता ने यहां गहोई भवन में पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि समाज में सर्व वैश्य समाज की हिस्सेदारी सोलह फीसदी है और यूपी की 403 विधानसभा सीटों में 106 सीटें वैश्य बहुल हैं, इसके बाबजूद राजनैतिक दलों ने इस समाज को कभी महत्व नहीं दिया और न ही राजनैतिक भागीदारी दी है। वैश्य समाज सबसे ज्यादा टैक्स देकर सरकारी खजाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देता है, सामाजिक और धार्मिक कार्यों में भी वैश्य समाज बढचढ कर अपनी भूमिका निभाता है। इसके बाबजूद सरकारी स्तर पर सबसे ज्यादा शोषण का शिकार वैश्य समाज का ही होता है। जब लोकसभा और विधानसभा में वैश्य समाज के प्रतिनिधि चुन कर जाएंगे तो वह अपने समाज की बात ज्यादा मजबूती के साथ रख सकेंगे। अपनी ताकत दिखाने, अपनी भागीदारी मांगने और राजनैतिक दलों पर दबाव बनाने के लिए विधानसभा चुनाव के पहले 5 दिसंबर को ‘वैश्य राजनैतिक अधिकार यात्रा लक्ष्य 2022’ का शुभारंभ मैनपुरी से किया जाएगा। चालीस दिन की यह रथयात्रा सूबे के सभी जिलों का भ्रमण करती हुई 16 जनवरी को लखनऊ में समाप्त होगी। इसके अलावा डॉ. गुप्ता ने कई और मुद्दों पर भी खुल कर बात की। उन्होंने वॉलमार्ट, फ्लिपकार्ट जैसी विदेशी कंपनियों के बहिष्कार की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि छोटे खुदरा दुकानदारों के अस्तित्व को बचाने और बाजारों की रौनक लौटाने के लिए सभी को संकल्प लेना चाहिए कि ऑनलाइन शॉपिंग नहीं करेंगे बल्कि अपने बीच के दुकानदार भाइयों से सामान खरीद कर उनको मजबूती प्रदान करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि जिस तरह सांसद और विधायक के लिए पेंशन का प्रावधान सदन में बैठ कर कर लिया गया है उसी तरह बुजुर्ग व्यापारियों के लिए भी पेंशन की व्यवस्था की जाए। परिषद के राष्ट्रीय महासचिव युद्धवीर सिंह कंथरिया, प्रदेश उपाध्यक्ष चौ. ब्रजेंद्र मयंक, जिलाध्यक्ष प्रमोद शिवहरे आदि ने भी रथयात्रा की रणनीति को लेकर अपनी बात कही। इस दौरान भाजपा नगर अध्यक्ष सुनील लोहिया, जिला मंत्री अंजू अग्रवाल, सुरेश गुप्ता बड़ा मील, संदीप अग्रवाल, इंजी. राजीव रेजा, रघुवीर शिवहरे, व्यापार मंडल अध्यक्ष संजय लोहिया, केके गुप्ता, विनोद गुप्ता, अंचल बिलइया, सौरभ पुरवार, राहुलबाबू अग्रवाल, दीपक अग्रवाल, छोटू बेहरे, राजकुमार, श्यामू आदि मौजूद रहे।

You may also like

Leave a Comment