Home उत्तर प्रदेश लखन महानिदेशालय परिवार कल्याण परिसर में स्वास्थ्य कार्यकर्ता संविदा एम. पी.डब्ल्यू. का बत्तीस वें दिन भी अपने प्रशिक्षण की मांग को लेकर सत्याग्रह रहा जारी

लखन महानिदेशालय परिवार कल्याण परिसर में स्वास्थ्य कार्यकर्ता संविदा एम. पी.डब्ल्यू. का बत्तीस वें दिन भी अपने प्रशिक्षण की मांग को लेकर सत्याग्रह रहा जारी

by Shrinews24
0 comment

लखन महानिदेशालय परिवार कल्याण परिसर में स्वास्थ्य कार्यकर्ता संविदा एम. पी.डब्ल्यू. का बत्तीस वें दिन भी अपने प्रशिक्षण की मांग को लेकर सत्याग्रह रहा जारी

श्री न्यूज 24 आदिति न्यूज़ साप्ताहिक अखबार यूट्यूब चैनल लखनऊ रायबरेली

प्रवीन सैनी लखनऊ रायबरेली

संगठन संरक्षक विनीत मिश्रा का कहना कि संक्रामक रोगों की रोकथाम करने वाले कर्मचारियों का चयन जिला स्तर तथा प्रदेश स्तर पर किया जाता है तत्पश्चात उन्हें प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है पूर्व में जिला स्तरीय चयन करके महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है परंतु पुरुष कार्यकर्ताओं के मामले में शासन द्वारा बाधा उत्पन्न की जा रही है यह एक पद एक सिद्धांत के विपरीत है यहां पर शासन द्वारा एक ही पद पर दो विधान थोपे जा रहे हैं जो अनुचित है दुखद यह है कि सरकार भी शासन द्वारा की जा रही नियम विरुद्ध कार्यवाही पर अंकुश नहीं लगा पा रहा है जिसके कारण अधिकारियों की मनमानी बढ़ती चली जा रही हैमाननीय उच्च न्यायालय खंडपीठ लखनऊ ने 25 मार्च 2014 को संविदा एम.पी.डब्ल्यू. के पक्ष में अंतरिम आदेश तथा 26 सितंबर 2014 को स्थगन आदेश पारित किया था। अंतरिम आदेश के विरुद्ध शासन द्वारा दायर की गई विशेष अपील दो सितंबर को खारिज हो चुकी है संविदा एम.पी.डब्ल्यू. कार्मिकों को प्रशिक्षण दिए जाने संबंधी पत्रावली पूर्ण है परंतु अपर मुख्य सचिव द्वारा उस पर निर्णय नहीं लिया जा रहा है प्रदेश के अंदर ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिए एम.पी. डब्ल्यू. पुरुष फ्रंटलाइन वर्कर है वर्तमान में प्रदेश के अंदर बीस हजार पांच सौ तिहतर स्वास्थ्य उपकेंद्र हैं इन उपकेंद्रों के ऊपरएम.पी.डब्ल्यू. पुरुष की तैनाती संक्रामक रोगों के रोकथाम करने के लिए की जाती है इसमें भी नियमित और संविदा के पद अलग-अलग है जहां नौ हजार से अधिकनियमित पद हैं वहीं ग्यारह हजार चार सौ तिरन्नाबे संविदा के पद हैं जहां सात हजार पांच सौ नियमित पद तथा संविदा के समस्त पद खाली हैं संविदा के पदों का वित्तीय पोषण भारत सरकार के द्वारा किया जा रहा है परंतु प्रशिक्षण के अभाव में अभी तक उत्तर प्रदेश के उप केंद्रों में संविदा एमपीडब्ल्यूकी तैनाती नहीं की जा स्की है यह कार्मिक मलेरिया टाइफाइड हेपेटाइटिस बी हैजा कुष्ठ रोग टीवी मस्तिष्क ज्वर इंसेफेलाइटिस आदि रोगों के रोकथाम प्रबंधन के साथ-साथ घर घर जाकर ब्लड स्लाइड बनाकर संक्रमित व्यक्ति की पहचान करते हैं वर्तमान समय में पूरे प्रदेश में डेंगू का प्रकोप जारी है जिसके चलते युवा बच्चे और बुजुर्गों की मौतें हो रही हैं इसी के साथ निपाह वायरस वायरस के सक्रिय होने की जानकारी मिली है कोविड-19 का खतरा बरकरार है अन्य तमाम तरह के संक्रामक रोगों के फैलने का खतरा बना हुआ है बावजूद इसके संक्रामक रोगों को रोकने की दिशा में कार्य कर सकने वाले अनुभवी संविदा एमपीडब्ल्यू प्रशिक्षण न देने के लिए कुचक्र रचा जा रहा है आज के आंदोलन की अध्यक्षता जिला पदाधिकारी रायबरेली देवेश वर्मा जी तथा जिलाध्यक्ष फिरोजाबाद सोनम के द्वारा की गई जनपद जौनपुर मुजफ्फरनगर रायबरेली फिरोजाबाद तथा लखनऊ के आंदोलनकारी साथियों ने भाग लिया धरना स्थल पर मौजूद आंदोलनकारियों को उ. प्र. बेसिक हेल्थ वर्कर्स एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष श्री धनंजय तिवारी जी भी संबोधित किया

You may also like

Leave a Comment