Home उत्तर प्रदेश डीएम ने बैठक कर कहा डेंगू, मलेरिया व अन्य बुखार होगा सर्वे

डीएम ने बैठक कर कहा डेंगू, मलेरिया व अन्य बुखार होगा सर्वे

by Shrinews24
0 comment

डीएम ने बैठक कर कहा डेंगू, मलेरिया व अन्य बुखार होगा सर्वे

7 सितंबर से 16 तक चालू रहेगा सर्वे अभियान

राहुल कुमार गुप्ता
ब्रजेन्द्र गुप्ता
उरई जालौन

उरई जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने विकास भवन में प्रेस वार्ता करते हुए कहा कि डेंगू, मलेरिया व अन्य बुखारों के मरीजों की पहचान के लिए 7 से 16 सितम्बर तक डोर-टू-डोर सर्वे कराया जायेंगा। डेंगू और मलेरिया की रोकथाम, बचाव एवं नियंत्रण के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 07 से 17 सितम्बर तक डोर-टू-डोर सर्वे कराया जायेंगा। सर्वे के दौरान डेंगू, मलेरिया, कोविड आदि के मरीजों की सर्वेक्षण कर समुचित उपचार कराया जायेंगा। जिलाधिकारी ने सभी प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देश दिए है कि क्षेत्र में प्रतिदिन एण्टीलार्वा और फागिंग सभी क्षेत्रों में की जाए। खण्ड विकास स्तर पर मच्छर रोधी कार्यवाही भी प्रतिदिन कराई जाए। आम जनता से भी आह्वान किया है कि मच्छरों के प्रजनन स्थानों को समाप्त करने के लिए कहीं भी अपने घरों के आस-पास पानी एकत्रित न होने दें।
उन्होंने सभी नागरिकों से अपील की है कि अपने-अपने घर व आस-पास पानी से भरे बर्तन जैसे कूलर, गमले, छतो पर रखे पुराने टायर, फ्रिज आदि जिनमें एक सप्ताह से ज्यादा पानी रूका रहता है उनमें पानी न भरने दें। ऐसे सभी बर्तनां को खाली कराये उन में ही लार्वा प्रजनन करता है। जिससे डेंगू, मलेरिया का मच्छर बनता है। उन्होंने कहा कि बच्चों को पूरी आस्तीन की कमीज और पेंट पहनायें। कीटनाशक युक्त मच्छरदानी का प्रयोग करें। मलेरिया/डेंगू के लक्षण होने पर तेज बुखार होने पर पैरासीटामोल की गोली ले सकते है। ठण्डे पानी से शरीर को पोछे। डेंगू उपचार के लिये कोई खास दवा अथवा बचाव के लिये कोई वैक्सीन नही है। औशधियों का सेवन चिकित्सकों की सलाह से करें। गंभीर मामलों के लक्षण जैसे (खून आना) होने पर चिकित्सालय में तुरन्त सम्पर्क करें। एस्प्रीन व स्टीराइड दवाईयों का सेवन कदापि नही करें। डेंगू रोगी को मच्छरदानी का प्रयोग अवष्य कराये। ध्यान रखें डेंगू रोग को फैलाने वाला मच्छर शहरी, अर्ध शहरी आबादी वाले मकानों में पाया जाता है, गन्दी नालियों में यह मच्छर नही रहता है, यह मच्छर घरों में साफ इक्ट्ठा पानी में अपने अण्डे देता है। घरों के अन्दर ये पानी कूलर, छत पर खुली टंकियाॅ, टीन के खाली डिब्बे, पुराने टायर, गमले, खाली बोतलें, सिस्र्टन, मनी प्लान्ट के गमले आदि में जहाॅ पर पानी अस्थाई रूप से एकत्रित रहता है वही पर प्रजनन कर अपनी संख्या बढाता है। उन्होंने कहा कि डेंगू या अन्य बीमारी के लिए चिकित्सा परामर्श अवश्य करें। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डॉ अभय कुमार श्रीवास्तव मुख्य चिकित्सा अधिकारी नरेंद्र देव शर्मा सूचना अधिकारी कृष्ण भगवान मिश्र उपस्थित रहे।

You may also like

Leave a Comment