Home उत्तर प्रदेश तीसरी लहर को रोकना होगी प्राथमिकता – सीएमओ डॉ एन० डी० शर्मा

तीसरी लहर को रोकना होगी प्राथमिकता – सीएमओ डॉ एन० डी० शर्मा

by Shrinews24
0 comment

तीसरी लहर को रोकना होगी प्राथमिकता – सीएमओ डॉ एन० डी० शर्मा

टाइम डॉक्टर करेंगे हर संभव इलाज जनता रखें सहयोग की भावना

बाहर की दवाई लिखने और मरीजों से दुर्व्यवहार करने वाले डॉक्टरों पर होगी कार्रवाई

स्टाफ की कमी फिर भी हम बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्थाएं करने की कोशिश करेंगे

राहुल कुमार गुप्ता
नरेन्द्र शर्मा
जालौन

जनपद जालौन के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ नरेंद्र देव शर्मा ने कार्यभार संभाल लिया। मीडिया से विशेष बातचीत में उन्होंने कई सवालों के जवाब दिए और भरोसा दिलाया कि स्टाफ की कमी होने के बाद भी जनपद जालौन की स्वास्थ्य व्यवस्था को ठीक करेगी।जनपद के हर एक पहलू को देखते हुए जानने की कोशिश करेंगे। कि ग्रामीण क्षेत्र में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में किस तरह का कार्य चल रहा है, क्योंकि अभी तक जैसे मीडिया द्वारा और आपके भी द्वारा बताया गया कि भ्रष्टाचारी भी चरम सीमा पर रहती। रात में डॉक्टर भी गायब रहते इन पहलुओं को देखते हुए और वहां की जनता से भी वार्तालाप करेंगे और जो लापरवाही बरतेगा उसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए स्वास्थ्य व्यवस्था को स्वस्थ रहने के साथ लोगों को स्वस्थ रखने का पूरा प्रयास करेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि प्राथमिकता से पहले कोरोना की तीसरी लहर को रोकने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए जनपद में जो टीम कार्य कर रही उन्हें और मजबूत बनाया जाएगा, साथ में टीकाकरण के कार्य को भी तेजी से बढ़ाया जाएगा और हर व्यक्ति की जांच हो सके इसके लिए भी कई प्रयास किए जाएंगे। तीसरी लहर को देखते हुए सभी अस्पतालों का स्वचालित रूप से संचालन रखा जाएगा साथ में ऑक्सीजन प्लांट पर भी ध्यान दिया जाएगा। उसके बाद आयुष्मान कार्ड योजना गर्भवती महिलाओं को इलाज के लिए लाभार्थी हैं। उनको सरकार की जो योजना है, उन सभी योजनाओं का लाभ दिलाया जाएगा। डॉक्टर नरेंद्र देव शर्मा ने इस बात का भी जिक्र किया कि जनपद में स्वीकृत पदों से कम कर्मचारी होने कारण स्वास्थ्य व्यवस्था बीमार है, जिसके चलते आए दिन स्वास्थ्य व्यवस्था पर उंगली उठती रहती हैं। लेकिन उसके बावजूद भी हम उन व्यवस्थाओं पर मरहम लगाने का कार्य करेंगे साथ में जनता से अपील भी की जनता पूरा सहयोग करें। हमारी विभागीय टीम आपका पूरा सहयोग करेगी। और सहयोग करने के साथ कुछ मामले कानूनी भी होते हैं, उन मामलों में भी जो सहायता हो सकती है पहले इलाज फिर उसके बाद कानूनी मामलों को देखा जाएगा। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने इस बात का भी जिक्र बखूबी किया कि जो बिना डिग्री के डॉक्टर गली-गली में बैठे हैं और मानक विहीन जो प्राइवेट अस्पताल खुले हुए हैं, उनके ऊपर कार्यवाही बहुत जल्द होने वाली है, या तो वह अपने क्लीनिक में शटर डाल दें या फिर विभागीय कार्रवाई के साथ शटर डलवाई जायेगी। इन्हीं सभी बात चीजों के उपरांत एक बात तो उठी की जिला अस्पताल की पार्किंग में अवैध रूप से किराए पर चलने वाली गाड़ी अतिक्रमण जमाए हुए हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने यह स्पष्ट कर दिया कि उनके ऊपर भी जल्द कार्रवाई होने वाली है सीएमएस और पुलिस विभाग की एक बैठक के बाद उनके ऊपर कार्रवाई होगी। इस बात को उस बैठक में रखा जाएगा और क्या उचित निर्णय निकल कर सामने आता है उसके उपरांत कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी क्योंकि यह मामला आज से नहीं कई सालों से बिसरा हुआ है। अवैध पार्किंग करने वाले दबंग के किस्म के चालक कभी-कभी डॉक्टरों के साथ भी बदतमीजी कर देते। इसके लिए पुलिस विभाग की मदद ली जाएगी।

इनसेट

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर नरेंद्र देव शर्मा ने बताया कि स्टाफ कमी के कारण व स्वास्थ्य व्यवस्था बदहाल है, 128 पद स्वीकृत है जिसमें से 68 कार्यरत है और 7 पोस्ट ग्रेजुएशन करने गए हैं। सिर्फ़ 68 कार्यरत कर्मचारियों से स्वास्थ्य व्यवस्था चल रही है। अन्य कर्मचारियों की व्यवस्था भी इन्हीं के द्वारा चलाई जाती है इस कारण कहीं ना कहीं स्वास्थ्य व्यवस्था बदहाल होती जा रही। इसके बावजूद भी हम स्वास्थ्य व्यवस्था को स्वस्थ रखने का कार्य करेंगे।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि देखा जाता है कि ग्रामीण क्षेत्र में प्रसव के समय महिलाओं से पैसे लिए जाते अगर ऐसी कोई शिकायत आएगी तो उस पर कार्रवाई होगी साथ में , डॉक्टर गायब मिलते हैं। तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। आप सिर्फ शिकायत करिए कार्रवाई करने की कार्य हमारा है।

You may also like

Leave a Comment