Home उत्तर प्रदेश दलित वर्ग से ही होगा बसपा का उत्तराधिकारी: मायावती

दलित वर्ग से ही होगा बसपा का उत्तराधिकारी: मायावती

by Shrinews24
0 comment

दलित वर्ग से ही होगा बसपा का उत्तराधिकारी: मायावती

राहुल कुमार गुप्ता
नरेन्द्र शर्मा
लखनऊ

लखनऊ: राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री व बसपा अध्यक्ष मायावती (mayawati) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोला. मायावती (mayawati) ने कहा कि कांग्रेस (congress) को चुनाव के लिए उम्मीदवार नहीं मिलते हैं. कांग्रेस के जनाधार की बुरी हालत है. कांग्रेस (congress) की रैली में दिहाड़ी पर भीड़ होती है. इसके बाद मायावती (mayawati) ने कांग्रेस द्वारा जारी की गई बुकलेट ‘किसने बिगाड़ा उत्तर प्रदेश’ पर तंज कसते हुए कहा कि जनता सब जानती है कि किसने क्या बिगाड़ा है. मायावती (mayawati) ने उत्तराधिकारी बनने के सवाल पर कहा कि बसपा का उत्तराधिकारी दलित वर्ग से ही होगा.

गौरतलब है कि कांग्रेस ने ‘किसने बिगाड़ा उत्तर प्रदेश?’ नाम से बुकलेट छपवायी है. अखबारों में छपी खबरों की कटिंग, फोटो, सारणियों और कैरिकेचर से सुसज्जित 20 पन्नों की इस बुकलेट में पार्टी ने तीनों दलों की सरकारों की ‘कारगुजारियां’ उजागर करने की कोशिश की है.

इस पर जवाब देने के लिए मायावती ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से बीएसपी की छवि खराब करने की कोशिश करती रही है. इसलिए मुझे बीच-बीच में मीडिया के सामने आना पड़ता है. उन्होंने कहा कि बसपा के बारे में जनता सब कुछ जानती है. दुष्प्रचार करने से किसी पार्टी को कोई फायदा नहीं है.

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि हमारी पार्टी धन्नासेठों की पार्टी नहीं है. अन्य पार्टियों की तरह हमारी पार्टी नहीं हैं. जो कुछ भी कार्यकर्ताओं से बन पड़ता है, उसी से पार्टी की सारी गतिविधियां चलती हैं. उन्होंने अपने जन्मदिन का जिक्र करते हुए कहा कि मेरे जन्मदिन पर लोग मुझे गहने और कपड़े देते थे, लेकिन मैंने कहा कि जितने रुपयों का गहना आप सब देते हैं, उन रुपयों को समाज को जागरुक करने के लिए लगाया जाए. लोगों को बीएसपी की सदस्यता दिलाई जाय और बीएसपी की किताब लोगों तक पहुंचाई जाय.

मायावती ने कहा कि आजादी के बाद कांग्रेस पार्टी लगातार सत्ता में रही, लेकिन उसकी कथनी और करनी में अंतर था, जिसकी वजह से उनका आज यह हाल है. कांग्रेस की वजह से ही बसपा पार्टी बनाने पड़ी और अन्य राजनीतिक पार्टियों का गठन हुआ. अपने इस हाल के लिए भी कांग्रेस जिम्मेदार है.

बसपा राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा (BSP National General Secretary Satish Chandra Mishra) से एक साक्षात्कार में बसपा के उत्तराधिकारी के बारे में पूछा गया था, इस पर जवाब देते हुए मायावती ने यह साफ कर दिया कि पार्टी की लगाम अभी उन्हीं के हाथ में रहेगी. उन्होंने पार्टी के उत्तराधिकारी की बात को साफ करते हुए कहा कि मेरा स्वास्थ्य अभी एक दम ठीक है, जब मेरी तबीयत ठीक नहीं रहेगी, तो उत्तराधिकारी घोषित करूंगी, लेकिन मेरे पार्टी का जब भी उत्तराधिकारी होगा, तो वह दलित वर्ग से ही होगा. कांशीराम जी जब तक ठीक थे, तब तक उन्होंने किसी उत्तराधिकारी की घोषणा नहीं की थी, जब उनकी तबीयत बिगड़ी तब उन्होंने पार्टी का उत्तराधिकारी घोषित किया.
मायावती ने कहा कि क्रांग्रेस की नाटकबाजी से कुछ होने वाला नहीं है. बुकलेट जारी करने से कांग्रेस को कोई फायदा नहीं होने वाला है. जब मुझे सरकार बनाने का मौका मिला था, तो हमने ऐतिहासिक काम किया है. घोषणाएं करने से नहीं, काम करने से काम चलता है. आगामी चुनाव में कुछ ही दिन बचे हैं, परिणाम आते ही सब पता चल जाएगा. दुष्प्रचार करने वालों के बारे में जनता सब जानती है, उनका कुछ नहीं होगा.

You may also like

Leave a Comment