Home उत्तर प्रदेश सपा के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माताप्रसाद पाण्डेय पर हमले की निंदा

सपा के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माताप्रसाद पाण्डेय पर हमले की निंदा

by Shrinews24
0 comment

सपा के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माताप्रसाद पाण्डेय पर हमले की निंदा

सपाईयों का ज्ञापन लेने कोई अधिकारी नहीं आया

सपाईयों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन चस्पा किया

राहुल कुमार गुप्ता
ब्रजेन्द्र गुप्ता
उरई जालौन

उरई विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष 80 वर्षीय माता प्रसाद पाण्डेय के ऊपर यूपी पुलिस के सामने भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा जानलेवा हमले के विरोध में आज शुक्रवार को सपा जिलाध्यक्ष नबाब सिंह यादव के नेतृत्व में सौरभ यादव सिंटू सपा युवजन सभा प्रदेश सचिव, जितेंद्र खटीक, नगर अध्यक्ष वेदप्रकाश यादव, महेंद्र कठेरिया, वीरेन्द्र यादव, जमालुद्दीन पप्पू,जयशंकर द्विवेदी, शबीउददीन, महेश द्विवेदी सर, सर्वेश यादव (लल्ला यादव) विधानसभा अध्यक्ष मजदूर सभा, पूर्व विधायक शिवराम कुशवाहा, पूर्व विधायक श्रीराम पाल, विधानसभा अध्यक्ष भानूप्रताप राजपूत, संतोष कोरी जीनू, प्रताप यादव बजरिया सहित दर्जनों की सपाजनों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर जमकर सरकार के विरोध में नारेबाज़ी करते हुए राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन प्रशासन को देने पहुंचे तो कोई अधिकारी ना मिलने की स्थिति में सपाईयों ने ज्ञापन को डीएम कार्यालय के बाहर चस्पा कर दिया। इस मौके पर सपा जिलाध्यक्ष नबाब सिंह यादव, शबीउददीन, श्रीराम पाल, महेश द्विवेदी सर, वेदप्रकाश यादव, सौरभ यादव सिंटू आदि ने कहा कि सपा के पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माताप्रसाद पाण्डेय ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशी के समर्थन में पर्चा दाखिले के लिए गए थे उसी समय ईट और पत्थर से जानलेवा हमला किया गया जिससे उनके कई समर्थकों सहित उन्हें गम्भीर चोटें आईं और वाहन भी क्षतिग्रस्त कर दिया। वयोवृद्ध पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय के साथ हुए हुए इस दुर्व्यवहार की निंदा करते हुए कहा कि घटना के समय प्रशासन मूकदर्शक बना रहा। उन्होंने कहा कि उ. प्र. में हो रहे पंचायत चुनाव में प्रदेश की सरकार द्वारा लोकतंत्र की हत्या की ओर आकृष्ट कराना चाहती है। भाजपा सरकार के शासनकाल में सम्मानित नेताओं को भी नहीं छोड़ा जा रहा है उनके साथ अभद्रता की जा रही है जो निंदनीय है। सपा नेताओं ने कहा कि पुलिस का इतना भय ब्याप्त है कि चुनाव लड़ने वाले एवं समर्थक और प्रस्तावक डर की बजह से घरों से नहीं निकल रहे है। सपा नेताओं ज्ञापन के माध्यम से लोकतंत्र बचाने के लिए कार्यवाही की मांग राष्ट्रपति से की है।

You may also like

Leave a Comment