Home उत्तर प्रदेश पालिका सभासद से केंद्रीय मंत्रिमंडल तक पहुंचने में पूरे तैंतीस साल लग गए भानुप्रताप वर्मा को

पालिका सभासद से केंद्रीय मंत्रिमंडल तक पहुंचने में पूरे तैंतीस साल लग गए भानुप्रताप वर्मा को

by Shrinews24
0 comment

पालिका सभासद से केंद्रीय मंत्रिमंडल तक पहुंचने में पूरे तैंतीस साल लग गए भानुप्रताप वर्मा को

राहुल कुमार गुप्ता
ब्रजेन्द्र गुप्ता
कोच जालौन

कोंच बुधवार को कोंच में जश्न जैसा माहौल रहा क्योंकि कोंच उनका गृह नगर है। और जश्न हो भी क्यों न, जालौन-गरौठा-भोगनीपुर संसदीय क्षेत्र से भाजपा के सांसद भानुप्रताप वर्मा को मोदी मंत्रिमंडल में स्थान जो मिला है। भानुप्रताप के तैंतीस बर्ष के लंबे राजनीतिक जीवन में वह एक बार विधायकी और पांच बार सांसदी जीते हैं। ऐसे सीनियर सांसद के लिए यह पहला मौका है जब उन्हें मंत्रिमंडल में जगह दी गई है, साथ ही लंबे अर्से बाद जनपद को प्रतिनिधित्व मिला है।
पालिका सभासद से केंद्रीय मंत्रिमंडल तक के सफर में एक बार विधायक और बार सांसद रहे 63 बर्षीय भानुप्रताप वर्मा की गिनती देश के ईमानदार सांसदों में शुमार की जाती है। वे परास्नातक के साथ साथ लॉ ग्रेजुएट भी हैं। यह उनका दुर्भाग्य ही रहा कि लंबे राजनैतिक इतिहास में अब जाकर उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में जगह मिल सकी है। बर्ष 1988 में भानुप्रताप वर्मा ने नगर पालिका परिषद में मालवीय नगर वार्ड से बतौर निर्दलीय प्रत्याशी सभासदी का चुनाव जीत कर अपने राजनैतिक सफर की डगर पर पहला पांव रखा था और राजनीति के लिहाज से उस समय इनका अपना कोई राजनैतिक गॉड फादर भी नहीं था लेकिन इनकी किस्मत ने जोर मारा और बुंदेलखंड में भाजपा के कद्दावर नेता रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री उप्र शासन दादा बाबूराम एमकॉम की नजर इन पर पड़ी और विधानसभा चुनाव में उन्होंने भानुप्रताप को कोंच विधानसभा (सुरक्षित) सीट से भाजपा का उम्मीदवार बना दिया। हालांकि भानुप्रताप अपना यह पहला विधानसभा चुनाव हार गए थे लेकिन उन्हें भाजपा में जोरदार एंट्री मिल चुकी थी लिहाजा अगली बार 1991 में फिर उन्हें विधानसभा का टिकिट देकर भाजपा ने मैदान में उतारा और वह चुनाव जीत कर विधानसभा पहुंच गए। यहां गौरतलब यह भी है कि उस वक्त जालौन-गरौठा संसदीय क्षेत्र से गयाप्रसाद कोरी भाजपा के सांसद थे लेकिन उनके असमय निधन के बाद भानुप्रताप को दिल्ली की राह मिल गई। साल 1996, 1998, 2004, 2014 और 2019 में उन्होंने जीत हासिल कर अपनी लोकप्रियता सिद्ध की। पांच बार के सांसद होने के नाते भानुप्रताप वर्मा को काफी पहले ही मंत्रिमंडल में जगह मिलने के कयास तो लगाए जाते रहे हैं लेकिन हकीकत के धरातल पर अब जाकर मोदी मंत्रिमंडल में यह संभव हो सका है।

You may also like

Leave a Comment