Home उत्तर प्रदेश लखनऊ उत्तर प्रदेश में होने वाले जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को भाजपा ने बनाई वर्चस्व की लड़ाई बसपा आई समर्थन में

लखनऊ उत्तर प्रदेश में होने वाले जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को भाजपा ने बनाई वर्चस्व की लड़ाई बसपा आई समर्थन में

by Shrinews24
0 comment

लखनऊ उत्तर प्रदेश में होने वाले जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को भाजपा ने बनाई वर्चस्व की लड़ाई बसपा आई समर्थन में

श्री न्यूज 24 आदिति न्यूज़ एवं यूट्यूब चैनल लखनऊ रायबरेली

प्रवीन सैनी लखनऊ

उत्तर प्रदेश ने जिस दिन से पंचायत चुनाव के नतीजे सामने आए हैं उसी दिन से लेकर आज तक प्रदेश के सभी जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर जोड़-तोड़ साम दाम दंड भेद का कार्यक्रम आरंभ हो चुका है इसमें मुख्य रूप से भारतीय जनता पार्टी तथा समाजवादी पार्टी आमने-सामने की टक्कर दे रही हैं पिचहतर जिलों में से सपा समर्थित सात सौ सैतालिश जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी विजई हुए और भाजपा के छह सौ छहसट बहुजन समाज पार्टी के तीन सौ बाईस प्रत्याशियों ने जीत हासिल की इस बार के चुनाव में निर्दलीयों का बोलबाला रहा तीन हजार पचास निर्दलीय प्रत्याशियों ने जिला पंचायत सदस्य पद जीते भारतीय जनता पार्टी इसकी भरपाई जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में पूरी करने के लिए कमर कस ली है पहले पचास से अधिक जिलों में भाजपा ने अपने जिला पंचायत अध्यक्ष जिताने का लक्ष्य रखा था पर नामांकन वाले दिन मेरठ मुरादाबाद गाजियाबाद गौतमबुद्धनगर बुलंदशहर जैसी कठिन सीट पर अपनी जीत पर भाजपाई रणनीतिकारों का उत्साह बहुत ऊंचा हो गया उन्तीश जून को नाम वापसी वाले दिन प्रतिनिधियों के नामांकन पत्रों को वापस कराने की मुहिम आरंभ कर दी माना जा रहा है कि कई जिलों उसके लिए भारतीय जनता पार्टी ने सभी को पूरा समीकरण समझा दिया है लगभग एक दर्जन से अधिक समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार भारतीय जनता पार्टी के संपर्क में हैं जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में भाजपा ने अब दूसरा दांव खेलने की पूरी तैयारी कर ली है भाजपा ने पहले सत्रह दिनों में अपने अध्यक्ष निर्विरोध चुने जाने का रास्ता साफ कर दिया है रणनीतिकार अधिक से अधिक सीटों पर अपने प्रत्याशियों को जिताने की कार योजना में जबरदस्त तरीके से लगे हुए हैं जिसको देखते हुए प्रतीत होता है कि भारतीय जनता पार्टी पिचतर में से कम से कम पचास जिलों में अपने प्रत्याशी को जिताने में कामयाब रहेगी यानी कि पचास जिले के जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष आसीन होगे होंगे जिस प्रकार मुख्य विपक्षी दल सपा भाजपा पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगा रही है उसने भी आपने शासन काल में कुछ ऐसा ही किया था राजधानी लखनऊ में बीएसपी के जिला पंचायत अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह प्रधान थे जैसे ही सत्ता में सपा सरकार आई वैसे ही लखनऊ जिला पंचायत अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह प्रधान को अविस्वास प्रस्ताव के द्वारा हटा दिया गया था पर जिसको सपा ने राजधानी लखनऊ की जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी दी थी वह भी आज सपा का दामन छोड़ कर भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम चुके है इसी को कहते हैं समय सबका आता है

You may also like

Leave a Comment