Home उत्तर प्रदेश संक्रमण के तीसरी लहर की आशंका के चलते बच्चों को बचाने की मुहिम में जी जान से जुटे जिम्मेदार

संक्रमण के तीसरी लहर की आशंका के चलते बच्चों को बचाने की मुहिम में जी जान से जुटे जिम्मेदार

by Shrinews24
0 comment

संक्रमण के तीसरी लहर की आशंका के चलते बच्चों को बचाने की मुहिम में जी जान से जुटे जिम्मेदार

सदर विधायक और जिलाधिकारी ने संयुक्त रूप से वितरित के बच्चों की स्पेशल कोरोना किट
तीसरी लहर बच्चों के लिए हो सकती है खतरनाक- जिला अधिकारी

राहुल कुमार गुप्ता
मोहम्मद इरफ़ान
उरई जालौन

उरई(जालौन)। कोरोना महामारी के संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के चलते अब शासन और प्रशासन के नुमाइंदों ने बच्चों की सुरक्षा के लिए अभी से ही पूरी तैयारी कर उसे अमलीजामा पहनाने की दिशा में पहल शुरू कर दी है आज रविवार को विधायक सदर गौरी शंकर वर्मा एवं जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने 0 से 12 साल तक के बच्चों के लिए स्पेशल कोरोना किट का वितरण कलेक्ट्रेट सभागार में किया गया। इस दौरान जिलाधिकारी ने स्पेशल कोरोना किट निगरानी समिति को सौंपी।
सभागार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान जिला अधिकारी प्रियंका निरंजन ने कहा की कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए खतरनाक हो सकती है। ऐसे में शासन प्रशासन सतर्कता बरते हुए काम कर रहा है। इसी के तहत यह किट वितरित की जा रही है। उन्होंने बताया कि तीन स्तर की किटों का वितरण होगा। जिसमें शून्य से 12 माह तक, एक साल से पांच साल तक और छह से 12 साल तक के बच्चों के लिए अलग अलग किट बनाई गई है। जो घर घर वितरित की जाएगी। इस किट का वितरण एक जुलाई से किया जाना है। जिलाधिकारी ने कहा कि काम को पूरी जिम्मेदारी से किया जाए। इसमें किसी तरह की कोताही न बरती जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. ऊषा सिंह ने बताया कि किट वितरण के लिए विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक हो चुकी है। ब्लाक स्तर के अधिकारियों को भी प्रशिक्षित किया जा चुका है। आशा, एएनएम और निगरानी समितियों के माध्यम से किट घर घर पहुंचाने की व्यवस्था की जाएगी। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. सत्यप्रकाश ने बताया कि तीनों किटों में अलग अलग दवाएं है। जो बच्चों को उनकी आयु के अनुसार वितरित की जाएगी। उन्होंने बताया कि कोरोना किट में यह दवायें शामिल है- 0 से 12 माह के बच्चों के लिए- पेरासिटामोल ड्राॅप 2 शीशी, मल्टी विटामिन ड्राॅप 1 शीशी, ओआरएस के 2 पैकेट। 1 से 5 वर्ष के बच्चों के लिए- पेरासिटामोल सीरप 1 शीशी, मल्टी विटामिन सीरप 1 शीशी, ओआरएस के 2 पैकेट। 6 से 12 वर्ष के बच्चों के लिए- पेरासिटामोल टेबलेट 500 एमजी 8 टेबलेट, मल्टी विटामिन 7 टेबलेट, आईवरमेक्टिन 3 टेबलेट, ओआरएस के 2 पैकेट। इसके उपरांत विधायक निधि से क्रय की गई शव वाहन एसी स्पेशल एंबुलेंस का जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने विधि विधान से पूजन किया। इसके बाद मा0 विधायक सदर गौरीशंकर वर्मा, जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन और मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 ऊषा सिंह ने कलेक्ट्रेट परिसर में संयुक्त रुप से हरी झंडी दिखाकर एंबुलेंस को रवाना किया। मा0 विधायक सदर ने बताया कि इस एंबुलेंस का प्रयोग कोरोना काल में शव वाहन एंबुलेंस का इमरजेंसी सेवाओं में प्रयुक्त किया जाएगा। इस एंबुलेंस का प्रयोग हेल्प लाइन नंबर 05162-252516 के माध्यम से किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि उन्होंने कोविड एल वन अस्पताल के लिए एक जेनरेटर और 50 आक्सीजन सिलिंडर भी विधायक निधि से दिया है।

You may also like

Leave a Comment