Home उत्तर प्रदेश अपने समर्थकों के साथ घनश्याम और उर्मिला ने किए नामांकन

अपने समर्थकों के साथ घनश्याम और उर्मिला ने किए नामांकन

by Shrinews24
0 comment

अपने समर्थकों के साथ घनश्याम और उर्मिला ने किए नामांकन

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के संयुक्त विपक्ष की प्रत्याशी उर्मिला सोनकर खावरी के समर्थन में सैकड़ों लोगों की मौजूदगी रही

राहुल कुमार गुप्ता
दीपक यादव
उरई जालौन

उरई जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा से घनश्याम अनुरागी और संयुक्त विपक्ष से उर्मिला सोनकर खावरी ने अपने अपने समर्थकों के साथ कलेक्ट्रेट में पीठासीन अधिकारी एवं जिला मजिस्ट्रेट प्रियंका निरंजन को अपने अपने परिचय प्रस्तुत किए। आज जिला पंचायत के नामांकन के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था कर रखी थी कलेक्ट्रेट के बाहर चारों तरफ बैरिकेडिंग थी और सशक्त पुलिस का तगड़ा इंतजाम था। इसके अलावा मेटल डिटेक्टर भी प्रवेश द्वारों पर लगाए गए थे नामांकन करने के लिए जिला प्रशासन ने प्रत्याशी और उनके प्रस्तावों को को ही अंदर जाने की अनुमति दी थी लिहाजा भाजपा के जिला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रत्याशी घनश्याम अनुरागी तथा संयुक्त विपक्ष की प्रत्याशी उर्मिला सोनकर खावरी के समर्थक 500 मीटर की दूरी जो जिला प्रशासन के द्वारा निर्धारित की गई थी वहीं रुके और वही से अपने-अपने प्रत्याशियों के पक्ष में नारेबाजी करने लगे । इस दौरान उर्मिला के समर्थकों की संख्या अनुरागी के समर्थकों से ज्यादा थी।
खावरी दंपत्ति हुए भूमिगत
कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता एवं पूर्व सांसद उनकी धर्मपत्नी उर्मिला सोनकर खबरी जो जिला पंचायत अध्यक्ष पद की संयुक्त दलों से प्रत्याशी हैं पिछले 2 दिनों से सत्ता से जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन द्वारा ताबड़तोड़ ढंग से जो 2 मुकदमों के नोटिस उन्हें भेजी गई इसके चलते खावरी दंपत्ति और उनके समर्थक परेशान हो गए उन्हें भीतर से यह खौफ पैदा हो गया कि कहीं नामांकन का पर्चा भरते समय उन्हें रोका ना जाए यह एक संकट आज उस समय दूर हो गया है जब अपने समर्थकों के साथ जिला पंचायत अध्यक्ष की प्रत्याशी और पूर्व सेवानिवृत्त अधिकारी उर्मिला सोनकर खाबरी में आराम से नामांकन कर दिया. नामांकन करने के बाद जब वह घर लौटे तो उनको उनके समर्थकों तथा सपा कांग्रेश विश्वनाथ जनता दल के नेताओं ने सलाह दी के जिला पंचायत के अध्यक्ष पद की प्रत्याशियों की नामांकन वापसी की तिथि 29 जून है जो उनके लिए यह दिन खतरे के दिन हैं इसलिए वह लोग आज से ही कहीं भूमिगत हो जाएं अपने समर्थकों की सलाह मानते हुए खावरी दंपत्ति कहीं चले गए। उनके फोन बार-बार लगाने पर भी स्विच ऑफ आ रहे हैं इसका मतलब यह है कि खाबरी दंपत्ति अपने समर्थकों शुभचिंतकों जब चाहेंगे फोन पर बात कर लेंगे लेकिन उनसे जब कोई बात करेगा तो फोन स्विच ऑफ आएगा इससे साफ है खाबरी दंपत्ति अब 29 तारीख के बाद जब खतरा टल जाएगा तभी जनपद जालौन के मुख्यालय उरई में प्रकट होंगे और अपने समर्थक जिला पंचायत सदस्यों के साथ 3 जुलाई को सामूहिक रूप से जाकर वोट डालेंगे।

You may also like

Leave a Comment