Home उत्तर प्रदेश पुष्पेंद्र सिंह अपने खाते से हर माह ₹45000 निकाल कर किस अधिकारी को और क्यों देता है

पुष्पेंद्र सिंह अपने खाते से हर माह ₹45000 निकाल कर किस अधिकारी को और क्यों देता है

by Shrinews24
0 comment

पुष्पेंद्र सिंह अपने खाते से हर माह ₹45000 निकाल कर किस अधिकारी को और क्यों देता है

आखिर कौन है रामधेश सिंह जिसकी महिंद्रा मराजो किराए पर लगी है एनएचआई में

इस कार का किराया ₹45000 प्रतिमाह आता है संविदा कर्मी ईडीएम पुष्पेंद्र सिंह के बैंक खाते में

भ्रष्टाचार का सरगना पुष्पेंद्र सिंह बैंक में प्रतिमाह आने वाले एन एच आई के ₹45000 पर नहीं देता कोई इनकम टैक्स

क्या यह सरकारी धन की हेरा फेरी नही?

राहुल कुमार गुप्ता
ब्रजेन्द्र गुप्ता
उरई जालौन

उरई अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी द्वारा डीएम जालौन प्रियंका निरंजन को संविदा कर्मी ई डिस्ट्रिक्ट मैनेजर (ईडीएम) पुष्पेंद्र सिंह के भ्रष्टाचार के 10 बिंदुओं वाली जो जांच करने के निर्देश दिए गए थे उसमें डीएम ने 2 सदस्य कमेटी गठित कर जांच शुरू करवा दी है। इस कमेटी में एडीएम पूनम निगम एवं कोषाधिकारी आशुतोष चतुर्वेदी हैं। जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है प्याज के छिलकों की तरह ईडीएम पुष्पेंद्र सिंह की भ्रष्टाचार के नए-नए कारनामे सामने आ रहे हैं। पुष्पेंद्र सिंह ने जिले के एक अधिकारी के साथ सांठगांठ की और रामधेश सिंह नाम के एक व्यक्ति की गाड़ी नंबर up92z9192 महिंद्रा मराजो लग्जरी कार एनएचआई में 45000 महीने पर लगवा दी थी। यह कार 2 साल 6 महीने 27 दिन पहले 27 नवंबर 2018 को रामधेश सिंह के नाम पर खरीदी गई थी। जब से यह कार भ्रष्ट ईडीएम द्वारा एनएचआई मैं लगवाई गई है तब से ₹45000 प्रतिमाह पुष्पेंद्र सिंह के खाते में आता है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह भ्रष्ट पुष्पेंद्र सिंह अपने खाते से प्रतिमाह ₹45000 निकालकर किसी अधिकारी को देता है जबकि दूसरी तरफ ₹45000 कार के किराए से प्रतिमाह पुष्पेंद्र सिंह को आय हो रही है उसका इनकम टैक्स पुष्पेंद्र सिंह नहीं जमा करता है जो एक आयकर की बड़ी चोरी है। अब सवाल यहां यह उठता है कि पुष्पेंद्र सिंह का कार ओनर रामधेश सिंह से क्या रिश्ता है और वह किस अधिकारी को प्रतिमाह एनएचएआई से मिलने वाले कार का किराया किस अधिकारी को और क्यों देता है। इसकी अगर गहनता से जांच हो तो भ्रष्टाचार के नए-नए खुलासे होंगे. मालूम हो कि पुष्पेंद्र सिंह हमीरपुर की घाट संख्या 23/13 जिसका अवैध खनन जालौन जिले में नदी पर सड़क बनाकर जालौन की कालपी तहसील में पिछले 4 महीने से किया जा रहा है। इस मामले में एडीएम ने बड़ा गांव स्थित बालू डंप को पकड़कर सीज करवा दिया था लेकिन चर्चा यह है कि कालपी का एक अधिकारी और पुष्पेंद्र सिंह के हाथ अवैध बालू खनन में रंगे हुए हैं। इसका सबसे बड़ा प्रमाण यह है। कि हमीरपुर निवासी शिवम कुमार ने बीती 4 जून को लखनऊ में मुख्यमंत्री कार्यालय जाकर यह लिखित शिकायत दी थी कि उप जिलाधिकारी कालपी हमीरपुर के पट्टा धारक अनिल दिक्षित की खदान नंबर 23/13 जो हमीरपुर के भेडी घाट पर खनन न करा कर पिछले कई महीनों से जालौन जिले की कालपी तहसील में अवैध खनन करा रहे हैं। इस अवैध खनन के चलते करोड़ों रुपए का राजस्व का चूना प्रदेश सरकार को लग चुका है।

You may also like

Leave a Comment