Home उत्तर प्रदेश डूडा द्वारा कराए जा रहे घटिया सड़क निर्माण कार्य को देखकर भड़के विधायक कैंट सौरभ श्रीवास्तव

डूडा द्वारा कराए जा रहे घटिया सड़क निर्माण कार्य को देखकर भड़के विधायक कैंट सौरभ श्रीवास्तव

by Shrinews24
0 comment

डूडा द्वारा कराए जा रहे घटिया सड़क निर्माण कार्य को देखकर भड़के विधायक कैंट सौरभ श्रीवास्तव

श्री न्यूज 24/ साप्ताहिक अदिति न्यूज़
ध्रुव ज्योति नन्दी, वाराणसी

अभी कुछ दिन पहले शिवपुरवा वार्ड में डूडा द्वारा कराए जा रहे सड़क निर्माण कार्य की शिकायत विधायक ने जिलाधिकारी से की थी और जांच कराने के लिए कहा था। जिस पर जिलाधिकारी ने जांच के लिए आदेश भी दे दिया था। अब विधायक बजरडीहा वार्ड गए तो वहां भी धांधली मिली। भड़के विधायक ने कई स्थानों पर खुदाई करवा कर जांच की। पता चला कि कहीं पुराने पड़े मलबे और कहीं सीधे मिट्टी पर बालू डालकर इंटरलॉकिंग मार्ग निर्माण करवा दिया गया है। नाली भी नही बनाई गई, जबकि नाली का पैसा पास है। जलनिकासी के लिए ढाल तक नही बनाया गया। क्षुब्ध विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर तीन स्थानों के ठेकेदारों को ब्लैकलिस्ट करने के लिए कहा है।

विधायक ने जिलाधिकारी को लिखा है कि “मेरे विधानसभा क्षेत्र वाराणसी कैंट में डूडा द्वारा किए जा रहे निर्माण कार्यों का मैंने स्थलीय निरीक्षण किया है। मेरे द्वारा किए गए निरीक्षण में निम्न तीन कार्यों में गंभीर अनियमितताएं पाई गई हैं। किसी कार्य में गिट्टी डाली ही नहीं गई है तो कहीं मानक से बहुत कम डाली गई है। रिटेनिंग वॉल का निर्माण भी अत्यंत खराब गुणवत्ता का हुआ है। कुछ कामों में नाली पास है, पर नहीं बनाई गई है। यदि नाली नहीं बनाई गई तो सड़क का कैंपर ठीक होना चाहिए। जिससे दोनों तरफ से पानी निकल जाए। वह भी नहीं किया गया है। संबंधित अभियंता द्वारा निर्माण के दौरान इन बातों का ध्यान नहीं रखा जा रहा है। बतौर जनप्रतिनिधि मेरे लिए संभव नहीं कि मैं 1-1 सड़क की जांच कर सकूं। ठेकेदार अच्छी गुणवत्ता से काम करें, समयबद्ध ढंग से काम करें, यह तभी संभव है, जब शासन की हनक बने। बार-बार ऐसे कामों को पकड़ा जाता है और उन्हीं ठेकेदारों को ठीक करने के लिए कहा जाता है। मैं पुनः यह कह रहा हूं कि ऐसे कुछ ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट करके ही हम बाकी को ठीक रास्ते पर ला सकते हैं।

निम्न तीन कार्यों की उच्चस्तरीय जांच कराएं और जांचकर्ता मुझसे संपर्क करके पूरी जानकारी ले ले, इसके लिए संबंधित को निर्देशित करें।

कार्य संख्या 1-
बजरडीहा अल्पसंख्यक एवं मलिन बस्ती में श्री कैलाश पटेल के मकान से पन्ना बनारसी तक एवं हाशमी मस्जिद के दक्षिणी हिजड़ा बस्ती तक भूमिगत जल निकासी एवं गली निर्माण कार्य-

A. इस कार्य में लगभग 300 मीटर CC ब्लॉक KC ड्रेन बनानी थी,  जिसको बिना बनाए ही इंटरलॉकिंग ईंट लगा दी गई।
B. मौके पर निरीक्षण में पाया गया कि लगभग 150 मीटर मार्ग में बिना गिट्टी डालें बालू डालकर इंटरलॉकिंग लगा दी गई।
C. जल निकासी हेतु पाइपलाइन डाले बिना ही इंटरलॉकिंग ईट लगा दी गई।
D. पूरी गली में रिटेनिंग वॉल जोड़ी ही नहीं गई है, जिसकी वजह से जो इंटरलॉकिंग ईंट लगी है, वह भी पूरी खिसक गई है।
E. पूरी गली में इंटरलॉकिंग ईंट उबड़ खाबड़ लगी है।

कार्य संख्या 2-
वार्ड नंबर 4 शिवपुरवा में डी 59/255-1-आर से विनोद सोनकर के आवास तक तथा डी 59/330-सी हीरावती देवी के आवास से डी 59/232 मालती देवी के आवास तक इंटरलॉकिंग द्वारा गली निर्माण कार्य-

A. बिना लेबल लिए टूटी जल निकासी की पाईप डाल दी गई।
B. पाईप के नीचे जो गिट्टी का बेस डाला जाता हैं वह भी नही डाला गया है।

कार्य संख्या 3-
वार्ड नंबर 4 शिवपुरवा अंतर्गत रेलवे सड़क के किनारे स्थित मलिन बस्ती व निराला नगर श्री राम बाबू जी से श्री जितेंद्र सिन्हा जी के आवास होते हुए श्री ए के गुप्ता जी के आवास तक एवम डी 59/264 -सी ,श्री रामपाल जी के मकान से डी 59/264 से श्री राम बाबू जी के आवास तक श्री धारी के आवास से डी 59/264 ए के मकान तक एवं श्री छन्नू बिंद के आवास से श्री दिलीप जी के आवास से होते हुए जवाहिर जी के आवास तक इंटरलॉकिंग व नाली निर्माण कार्य-

A. जिस गली में पाईप लाईन डाल कर इंटरलॉकिंग लगाना था, वहां बिना पाईप लाईन डाले ही इंटरलॉकिंग ईंट लगा दी गई।
B. इंटरलॉकिंग ईंट के नीचे बेस में गिट्टी की धूल डालकर इंटरलॉकिंग ईंट लगा दी गई है, वह भी मानक से बहुत कम।

You may also like

Leave a Comment