Home उत्तर प्रदेश लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के दिल्ली पहुंचने से खत्म हो सकती राजनीतिक अटकलें

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के दिल्ली पहुंचने से खत्म हो सकती राजनीतिक अटकलें

by Shrinews24
0 comment

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के दिल्ली पहुंचने से खत्म हो सकती राजनीतिक अटकलें


श्री न्यूज 24 आदिति न्यूज़ एवं यूट्यूब चैनल लखनऊ रायबरेली
प्रवीन सैनी लखनऊ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अचानक दिल्ली दौरे पर पहुंच गए हैं जानकारी के अनुसार योगी दिल्ली में पहले गृह मंत्री अमित शाह और फिर शुक्रवार को पी एम नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे लखनऊ के सत्ता के गलियारों में सी एम योगी आदित्यनाथ के दौरे को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हैं इस यात्रा में सबसे अहम बुधवार देर रात की वो बैठक है जिसमें मुख्यमंत्री योगी के साथ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और संगठन महामंत्री सुनील बंसल शामिल हुए थे जानकारी के अनुसार योगी आदित्यनाथ की बुधवार देर रात लखनऊ में स्वतंत्र देव सिंह और सुनील बंसल के साथ बैठक हुई।इस बैठक के बारे में वैसे तो सरकार की तरफ से कहा गया कि ये हर महीने होने वाली रूटीन बैठक थी लेकिन इस बैठक में शामिल होने के लिए सुनील बंसल अपने कार्यक्रम छोड़ हेलीकॉप्टर से वापस लखनऊ पहुंचे थे कहा ये जा रहा है कि ये बैठक और हाल के दिनों में सियासी कयासों के बारे में रिपोर्ट देने के लिए योगी दिल्ली गए हैं इसके अलावा पिछले एक महीने के घटनाक्रम की बात करें तो उत्तर प्रदेश भाजपा में तमाम सियासी अटकलों का बाजार गर्म रहा भाजपा और आर एस एस के बड़े नेताओं ने लखनऊ का दौरा किया मंत्रिमंडल विस्तार से लेकर संगठन में बदलाव तक की चर्चा चलती रही हाल में यह भी कहा गया कि पी एम मोदी और सी एम योगी के बीच कुछ गड़बड़ है।इसको बल इस बात से भी मिला जब कानपुर में एक सड़क हादसे में सत्रह लोग मारे गये इसमें पहली बार ऐसा हुआ कि पी एम मोदी ने घटना के बारे में यूपी से पहले ट्वीट करके न सिर्फ संवेदना जताई बल्कि पी एम फंड से पीड़ितों को मुआवज़ा भी देने का ऐलान किया।वो भी बिना योगी सरकार को टैग किये।इसके बाद आनन-फानन में रात में यूपी सरकार की तरफ से ट्वीट किया गया संभावना इस बात की भी है कि प्रदेश में हाल के दिनों में हुई चर्चाओं को लेकर मुख्य मंत्री योगी से बातचीत होनी है।योगी के दिल्‍ली दौरे को पंचायत चुनाव और आगे की चुनावी रणनीति पर चर्चा करने से जोड़कर भी देखा जा रहा है
एक वजह यह भी हो सकती है कि योगी यह समझना चाह रहे हों कि आखिरकार जितिन प्रसाद को शामिल करके पार्टी क्या रणनीति अपनाना चाहती है सबसे अहम बात यह कि हाल के दिनों में ही बीएल संतोष यूपी के बारे में केंद्र को रिपोर्ट सौंपी है उसके बारे में भी बातचीत इस अचानक यात्रा का एजेंडा हो सकती है

You may also like

Leave a Comment