Home उत्तर प्रदेश सुहागिन महिलाओं ने पति की लंबी आयु के लिए बरगद के पेड़ जाकर पूजन किया

सुहागिन महिलाओं ने पति की लंबी आयु के लिए बरगद के पेड़ जाकर पूजन किया

by Shrinews24
0 comment

सुहागिन महिलाओं ने पति की लंबी आयु के लिए बरगद के पेड़ जाकर पूजन किया

श्री न्यूज 24/ साप्ताहिक अदिति न्यूज़
ध्रुव ज्योति नन्दी, वाराणसी

पति की लंबी उम्र की प्रार्थना और सदा सुहागन रहने के संकल्प के साथ गुरुवार को वट सावित्री की पूजा धर्म की नगरी काशी में मनाया जा रहा। कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ व्रती महिलाएं पूजन-अर्चन कर रही है।

सुहागिन महिलाओं ने पति की लंबी आयु के लिए बरगद के पेड़ के समीप जाकर पूजन किया। हालांकि कुछ ने कोरोना संकट के कारण शारीरिक दूरी का ख्याल रखते हुए घर में ही पूजन-विधान का रास्‍ता अपनाया। ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या को मनाए जाने वाले इस व्रत में बरगद के वृक्ष का पूजन और परिक्रमा का विधान है।

वट वृक्ष के नीचे बैठकर महिलाओं ने विधि-विधान से सत्यवान-सावित्री की कथा श्रवण कर पुष्प-फल अर्पित किया। कच्चा धागा बांधकर अखंड सौभाग्य की कामना के साथ ही कोरोना से मुक्ति दिलाने की भी प्रार्थना की।
धर्म की नगरी काशी में मीरघाट स्थित धर्मकुप में वटवृक्ष के नीचे महिलाओं ने पूजन-अर्चन विधि-विधान से किया। चार-पांच की संख्या में सुहागिनों के पहुंचने का तांता लगा रहा। शहर से लेकर देहात तक वट सावित्री का पूजन महिलाओं ने उत्‍साह और उल्‍लास के साथ किया। व्रतियों ने बाजार से कच्चा सूत, सौभाग्य की सामग्री जिसमें चूड़ी, बिंदी, सिंदूर, कंघा, आल्ता आदि की खरीदारी भी किया। इन सामग्री को पूजा के अवसर पर दान किया।

यह है मान्यता

पंडित लोकनाथ शास्त्री अनुसार यह व्रत पूजन जेष्ठ मास की अमावस्या तिथि पर किया जाता है। मान्यता है कि वट वृक्ष में तीनों देवताओं, ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास होता है। जेष्ठ मास अमावस्या के दिन माता सती सावित्री ने कठोर व्रत-पूजन से अपने पति सत्यवान को यमराज से जीवन दान प्राप्त किया था।

You may also like

Leave a Comment