Home उत्तर प्रदेश लखनऊ सरोजनी नगर पुलिस की लापरवाही ने छीनी तीन की जिंदगी

लखनऊ सरोजनी नगर पुलिस की लापरवाही ने छीनी तीन की जिंदगी

by Shrinews24
0 comment

राजधानी लखनऊ सरोजनी नगर पुलिस की लापरवाही ने छीनी तीन की जिंदगी

श्री न्यूज़24/ अदिति न्यूज़ सरोजनी नगर लखनऊ
रिपोर्टर रेहान खान

सरोजनीनगर। लखनऊ सरोजनीनगर इलाके में सोमवार शाम पुलिस द्वारा की जा रही वाहन चेकिंग के दौरान एक बड़ी दुर्घटना घटने से तीन लोगों की दर्दनाक मौत हो गई। घटना के दौरान ट्रक ट्रेलर के नीचे दबे तीनों शवों को क्रेन के जरिए ट्रक ट्रेलर हटाकर बाहर निकाला गया। बाद में जानकारी पाकर पहुंचे एक मृतक के परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए काफी देर तक शव नहीं उठाने दिया और वहीं पर जमकर हंगामा करने लगे। मुआवजे की मांग को लेकर हंगामा कर रहे लोगों का आरोप था कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलिस द्वारा अगर चेकिंग नहीं की जा रही होती, तो शायद यह घटना नहीं होती। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक सरोजनीनगर के कानपुर रोड स्थित स्कूटर इंडिया चौराहे पर सोमवार शाम करीब 5 बजे पुलिस द्वारा दोनों पटरी पर दोपहिया वाहनों की चेकिंग की जा रही थी। तभी बंथरा की ओर से आ रहे एक बाइक सवार को पुलिस वालों ने चेकिंग के लिए अचानक रोक लिया। इसी बीच पीछे से तेज रफ्तार में आ रहे ट्रक ट्रेलर का चालक उसे बचाने के चक्कर में अपने वाहन का नियंत्रण खो बैठा और ट्रक ट्रेलर अनियंत्रित होकर सर्विस रोड का डिवाइडर फांदते हुए सार्वजनिक शौचालय में जा घुसा। इस हादसे में शौचालय में शौच करने पहुंचा पास के ही बिजनौर रोड पर दुकान चलाने वाला बंथरा के भटगांव निवासी सुफियान 25 ट्रक टेलर के नीचे दब गया। जबकि उधर से गुजर रहे दो अज्ञात बाइक सवार युवक भी ट्रक ट्रेलर के नीचे दब गये। बाद में दो क्रेनों की मदद से ट्रक ट्रेलर को हटाकर उसके नीचे दबे तीनों लोगों को बाहर निकाला गया। लेकिन तब तक सुफियान की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। जबकि गंभीर हालत में दोनों अन्य को सरोजनीनगर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया। जहां चिकित्सकों ने उन्हें भी मृत घोषित कर दिया। उधर घटना के बाद कानपुर रोड की कानपुर से लखनऊ आने वाली पटरी पर भीषण जाम लग गया। बाद में घटना की सूचना पाकर पहुंचे सुफियान के परिजनों ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर वहीं पर हंगामा शुरू कर दिया। हंगामा कर रहे लोगों ने मुआवजे की मांग को लेकर पुलिस को काफी देर तक मृतक सुफियान का शव नहीं उठाने दिया। परिजनों का आरोप था कि अगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलिस वाहन चेकिंग नहीं कर रही होती तो शायद यह घटना ना होती। हालांकि बाद में पुलिस ने हंगामा कर रहे लोगों को उचित सरकारी मुआवजा दिलाने का आश्वासन देकर उन्हें शांत किया फिलहाल पुलिस ने काफी देर बाद कड़ी मशक्कत कर तीनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वही पीड़ित परिवार जब सरोजिनी नगर थाने पहुंचा तो पुलिस मृतक के परिजनों पर पर जबरदस्त दबाव बनाना शुरू कर दिया जिस परिजनों में काफी आक्रोश व्याप्त हो गया

You may also like

Leave a Comment